84 हमलों की निशानियां संभालने का कार्य मुख्य एजेंडे पर लाए एसजीपीसी

संवादसहयोगी,जगराओं:जून1984केदंगोंमेंबचीनिशानियांसंभालनाहमाराधर्महै।गुरुद्वारासाहिबकेप्रबंधोंकीजिम्मेदारीसंभालनेवालीशिरोमणिकमेटीइसकार्यकोभीअपनेमुख्यएजंडेपरलेकरआए।यहमांगसिखस्टूडेंटफेडरेशनकेमुख्यसेवादारऔरशिरोमणिकमेटीकेसदस्यगुरचरणसिंहग्रेवालनेफेडरेशनकीअहमबैठकदौरानकी।

ग्रेवालनेकहाकिगुरुद्वारासाहिबकीसेवासंभालकीजिम्मेवारीसंभालनेवालीशिरोमणिकोनिवेदनकियाजाताहैकिवहइसविरासतकोसंभालनेकाकामअपनेएजेंडेमेंलेकरआए।उन्होंनेकहाकिदरबारसाहबकेअंदरतोपकेगोलेऔरगोलियोंकेनिशानअभीभीबरकरारहै।उनकोनईतकनीककेसाथसंभालाजाए।निहत्थेसिखश्रद्धालुकेकत्लेआमकीगवाहगुरुरामदाससरायकोभीऐतिहासिकपक्षसेसंभालाजाए।फेडरेशनकाएकशिष्टमंडलश्रीअकालतख्तसाहिबकेजत्थेदार,शिरोमणिगुरुद्वाराप्रबंधककमेटीकीप्रधानबीबीजागीरकौरऔरसिखराजनीतिकप्रभारियोंकेसाथमिलकरज्ञापनसौंपेगा।

इसमौकेशिरोमणिकमेटीकेपूर्वप्रधानभाईगुरबख्शसिंहखालसा,परमजीतसिंहधर्मसिंहवाला,हिम्मतसिंह,मोहनसिंह,दर्शनसिंह,गुरबख्शसिह,सरदूलसिंह,जसविदरसिंहऔरहरदीपसिंहकेअलावाअन्यउपस्थितथे।