स्व. दर्शन सिंह कुलार का साइकिल इंडस्ट्री की ग्रोथ में अहम योगदान

लुधियाना(वि.):साइकिलउद्योगकोस्थापितकरनेमेंमिसालकायमकरनेवालेस्व.दर्शनसिंहकुलारकाजन्मपांचनवंबर1939कोरत्नसिंहकुलारवसंतकौरकेघरहुआ।1955मेंजीजीएनखालसास्कूलगुरुसरसुधारसेमैट्रिकपासकरनेकेबादलुधियानाजाकर1956मेंकुलारभाइयोनेअपनाअपनाव्यवसायस्थापितकियाऔरकिरायेकीइकाईदेवकीनंदनएंडसंसमेंसाइकिलमडगार्डकानिर्माणशुरूकिया।1962मेंउन्होंनेअपनीइकाईकुलारसाइकिलइंडस्ट्रीजशुरूकी,जहांउन्होंनेपहलेमशीनरीऔरफिरसाइकिलकेमडगार्डऔररिम्सकाउत्पादनकिया।

दर्शनसिंहकोभारतीयसाइकिलइंडस्ट्रीमेंएकटेक्नोक्रेटकेरूपमेंजानाजाताहै।18सालपहलेदर्शनसिंहकुलारकानिधन23अप्रैल,2003मेंहुआ।उनकेदोबेटेसरदारगुरमीतसिंहकुलारऔरसरदारजगदेवसिंहकुलारनेविरासतकोआगेबढ़ायाऔरव्यवसायकोतेजीसेबढ़ाया।वेइससमयसैंभीसाइकिलऔरआटोइंडस्ट्रीजयूनिटनंबर2,दर्शनउद्योग,कुलारइंटरनेशनल,कुलारइंडस्ट्रियलकारपोरेशनऔरकुलारसंसनामकफर्मोंकासंचालनकररहेहैं।इसकेअलावासरदारगुरमीतसिंहकुलारफिको(फेडरेशनआफइंडस्ट्रीयलएंडकमर्शियलआगनाइजेशन)केप्रधानऔरपीएचडीचैंबरआफकामर्सएंडइंडस्ट्रीकेलुधियानाजोनकेचेयरमैनभीहैंऔरऔद्योगिकसमुदायकीसेवाकररहेहैं।उनकीपुण्यतिथिपरकुलारपरिवारसरदारदर्शनसिंहजीकुलारकोश्रद्धांजलिअर्पितकरताहै।